वास्तु  के अनुसार  कहां लगाएं हनुमानजी के चित्र

वास्तु के अनुसार कहां लगाएं हनुमानजी के चित्र

vastu 

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में कहां लगाएं हनुमानजी के चित्र


"हनुमानजी की साधना से बल,बुद्धि और विद्या की प्राप्ति होती है। ऐसी मान्यता है कि जिन घरों में हनुमानजी की प्रतिमा होती है और नियमित उनकी पूजा होती है वहां शनिदोष, पितृदोष और भूत पिशाचों का डर व दोष नहीं होती है।" 


- घर पर हनुमानजी के चित्र कहां पर और कैसे लगाया जाएं इसके कुछ       नियम हैं।

पंचमुखी हनुमान

"पंचमुखी हनुमान जी का चित्र मुख्य द्वार के ऊपर लगा सकते हैं , ऐसी जगह लगाएं जहां से यह सभी को नजर आए। ऐसा करने से घर में किसी भी तरह की बुरी शक्ति प्रवेश नहीं करेगी।"


हनुमानजी बाल ब्रह्मचारी हैं और इसी वजह से उनका चित्र शयनकक्ष में न रखकर घर के मंदिर में या किसी अन्य पवित्र स्थान पर रखना शुभ रहता है। शयनकक्ष में रखना अशुभ है।


यदि भवन में गलत दिशा में कोई भी वास्तु दोष के कारण परिवार में शत्रु बाधा, बीमारी व मन मुटाव देखने को मिलता है। इस दोष को दूर करने के लिए उस भवन में ऐसे पंचमुखी हनुमान का चित्र लगाना चाहिए। जिनका मुख दक्षिण पाश्चिम दिशा की तरफ हो।

बैठक में , पर्वत उठाते हुए हनुमानजी का चित्र ,पंचमुखी हनुमानजी का चित्र या श्रीराम भजन करते हुए हनुमानजी का चित्र लगा सकते हैं। ध्यान रखें कि उपरोक्त में से कोई एक चित्र लगा सकते हैं।

उड़ते हुए हनुमान

यह चित्र आपके घर में है तो आपकी उन्नति, तरक्की और सफलता को कोई रोक नहीं सकता। आपमें आगे बढ़ने के प्रति उत्साह और साहस का संचार होगा। निरंतर आप सफलता के मार्ग पर बढ़ते जाएंगे।

यह भी पढ़े



उज्जैन का नागचंद्रेश्वर मंदिर : क्यों खुलता है सिर्फ साल में एक दिन

0 Response to "वास्तु के अनुसार कहां लगाएं हनुमानजी के चित्र"

Post a Comment

Please Do Not Enter Any Link in Comment Box

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article